March 30, 2020

करंट न्यूज़

खबर घर घर तक

असदुद्दीन ओवैसी और उनकी पार्टी एक बार फिर सवालों के घेरे में

असदुद्दीन ओवैसी

असदुद्दीन ओवैसी और उनकी पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन AIMIM वैसे तो अक्सर ही विवादों और सवालों में घिरे रहते हैं।

कभी खुद AIMIM के चीफ असदुद्दीन ओवैसी कभी उनके भाई और कभी उनके पार्टी के कोई न कोई अन्य सदस्य अपने बयान या केंद्र सरकार या कभी किसी और पर अपनी विशेष टिपण्णी के लिए अक्सर सवालों में घिरे रहते हैं ।

एक बार फिर असदुद्दीन ओवैसी और उनकी पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन AIMIM न्यूज़ में हैं और उन्हें लेकर कई राजनेताओं ने काफ़ी गंभीर शब्द भी कहे हैं तो आइये आपको बताते हैं की आख़िर इस बार अपने किन बयानों और कारनामो को लेकर AIMIM
पार्टी और उसके प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी चर्चा में हैं।

एआईएमआईएम के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता वारिस पठान ने कर्नाटक के गुलबर्गा में एक जनसभा को संबोधित करते हुए विवादित बयान दिया है। वारिस पाठन ने बिना नाम लिए कहा कि पर 15 करोड़ (मुस्लमान) है मगर 100 करोड़ (हिंदुओं) पर भारी पड़ेंगे, ये याद रख लेना। वारिस पठान ने जब यह बयान दिया तो वहां हैदराबाद से सांसद और उनकी पार्टी चीफ असदुद्दीन ओवैसी भी मौजूद थे।

एक जनसभा को संबोधित करते हुए वारिस पठान ने कहा कि गुजरात में हमारी मां-बहनों की इजजत लूटी गई और बच्चों को मारा गया वो किस शाखा से आते थे। जामिया और शाहीन बाग में जो पिस्तौल लेकर चला गया वो किसी बात सुनकर चला गया और किस शाखा से आया था जवाब तो दे दो मुझे।

उन्होंने कहा कि अगर उनके पास अल्फाज है तो हमारे पास भी वो जुबान है जो उन्हें मुंह तोड़ जवाब दे सकती है। वो हमारी जुबान की आतिशबाजी का मुकाबला नहीं कर सकते हैं। हमने ईंट का जवाब पत्थर से देना सीख लिया है, मगर अब इक्ट्ठा होकर चलना होगा।

पठान ने कहा कि आजादी लेनी पड़ेगी और जो चीज मांगने से नहीं मिलती उसको छीन कर लेना होगा। अब वक्त आ गया है हमको बोला जाता है कि मां-बहनों को आगे भेज दिया है। अभी तो हमारी शेरनियां बाहर निकली है तो पसीने छूट गए अगर हम साथ में आ गए तो सोच लो क्या होगा।

इस बयान के बाद इसके विरोध में कई राजनेताओं ने भी बयान जारी किये :-

ऐसे नेताओं को गिरफ्तार किया जाना चाहिए: तेजस्वी

आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने कहा ‘ये बयान शर्मनाक है और उन्हें गिरफ्तार किया जाना चाहिए। एआईएमआईएम भाजपा की बी-टीम के रूप में काम कर रही है। उसी तरह अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा जैसे नेताओं को भी गिरफ्तार किया जाना चाहिए। जो कोई भी उत्तेजक बयान दे उसके खिलाफ कार्रवाई होनी ही चाहिए।

भाजपा और AIMIM एक दूसरे के पूरक हैं: दिग्विजय सिंह

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा कि इसी प्रकार के बयान असाउद्दीन ओवेसी सांसद के भाई अकबरउद्दीन ओवेसी विधायक ने दिए थे। वारिस पठान के खिलाफ सख़्त कार्रवाई होना चाहिए। कांग्रेस सदैव कट्टरपंथी विचारधारा के खिलाफ लड़ी है। भाजपा और AIMIM एक दूसरे के पूरक हैं। दोनों धार्मिक भावना फैला कर नफ़रत पैदा करते हैं।

देखे इससे जुड़ा वीडियो :-https://youtu.be/o_1LVjz-3KE

कौन सी आजादी चाहिए, किससे आजादी चाहिए: संबित पात्रा

बीजेपी के नेता संबित पात्रा ने कहा है कि ओवैसी की पार्टी के कद्दावर नेता वारिस पठान कहते हैं कि हम छीन कर लेंगे आजादी। मैं इन तथाकथित लिबरल से पूछना चाहता हूं कि कौन सी आजादी चाहिए, किससे आजादी चाहिए? ओवैसी की पार्टी ने कहा है कि 15 करोड़, 100 करोड़ पर भारी पड़ेंगे।

अगर भाजपा के नेता ने ऐसा कोई बयान दे दिया होता तो आज सारे तथाकथित लिबरल सड़क पर उतर जाते, पूरे देश में कोहराम मचा देते। लेकिन आज एक भी सामने नहीं आ रहा है, एक भी सवाल नहीं पूछ रहा है।

ये सारे लोग हमारे मुस्लिम भाइयों को बरगला रहे हैं, भ्रमित कर रहे हैं। इन सभी लोगों के हाथ में संविधान और दिल में वारिस पठान है, ये साबित कर दिया है। आज ये स्पष्ट हो गया है कि इनके हाथ में संविधान और मन में वारिस पठान है।

क्या हैं इस पार्टी से जुड़ा दूसरा मामला

बेंगलुरु के फ्रीडम पार्क में गुरुवार को एंटी सीएए रैली का आयोजन किया गया था। इस रैली को असदुद्दीन ओवैसी संबोधित करने वाले थे, तभी मंच पर एक लड़की आई और वह पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा लगाने लगी। मंच पर लोग भौचक्के हो गए। सबसे पहले ओवैसी ने लड़की को रोकने की कोशिश की, फिर पार्टी कार्यकर्ताओं ने लड़की से माइक छीन लिया।

इसे भी पढ़े :-मोदी ने की ट्रम्प के स्वागत की तैयारियां,यहां जानिये उनका सारा प्लान

असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के मंच पर एक लड़की ने पाकिस्तान के समर्थन में नारा लगाकर हर किसी को सकते में डाल दिया।

अमूल्या पर राजद्रोह का आरोप दर्ज

पाकिस्तान समर्थित नारा लगाने वाली लड़की अमूल्या लियोना के खिलाफ राजद्रोह का केस दर्ज हो चुका है। कोर्ट ने अमूल्या लियोना को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

अमूल्या लियोना को परप्पाना अग्रहारा की सेंट्रल जेल में रखा जाएगा। इसके साथ ही बेंगलुरू पुलिस ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ फ्रीडम पार्क में आयोजित रैली के आयोजकों को भी नोटिस भेजा है। उन्हें पूछताछ के लिए आज सुबह बुलाया गया|

Image Source :-https://www.currentnewsdainik.com/wp-content/uploads/2020/02/OWASI.jpg

Share and Enjoy !

0Shares
0 0 0

Pin It on Pinterest