March 29, 2020

करंट न्यूज़

खबर घर घर तक

गेहूँ या गेहूँ की अंकुरी के सेवन तथा फायदे

गेहूँ या गेहूँ की अंकुरी के फायदे

यह प्राकृतिक आहार का सबसे अच्छा प्रकार है। इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन, मिनरल और एंजाइम पाए जाते हैं| गेहूँ के ज्वारे के रस के उपचार के कई उदाहरण हैं क्योंकि यह कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों को ठीक कर सकता हैगेहूं के रस के नियमित, अल्पकालिक सेवन की शक्ति का चिकित्सीय प्रभाव है|

 नतीजतन, शरीर में नई ऊर्जा का संचार होता है, आंखों में अनोखी चमक, गालों पर लाली आ जाती है और त्वचा छोटी होने लगती है|

गेहूं के अंकुर रक्त में हीमोग्लोबिन के स्तर को भी बढ़ाते हैं, जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता की वृद्धि का एक महत्वपूर्ण कारक है|

100 मिलीग्राम शुद्ध गेहूं 2.5 किलोग्राम पौष्टिक सब्जियों के बराबर है

एक स्वस्थ, सामान्य पुरुष के लिए 100 मिली। शुद्ध गेहूं का पौष्टिक रस पर्याप्त है|

अगर सुबह-सुबह ली गई गेहूं की फली का रस अधिकतम लाभ देगा|

गेहूं से विभिन्न रोगों का उपचार

दुनिया भर के विभिन्न देशों में अंकुरी-चिकित्सा उपचार का उपयोग सभी अनुसंधान केंद्रों में किया जाता है| यहां कुछ ऐसे रोगों की सूची दी गई है, जो स्तब्ध हो जाना के उपचार में प्रभावी है|

हृदय रोग

एनीमिया, उच्च रक्तचाप (उच्च रक्तचाप), गेहूं के आंतरिक रक्तस्रावी अंजीर का रस एनीमिया की अचूक दवा है|

गेहूं के अंजीर के रस से एनीमिया के सभी रोगियों का सफल इलाज किया जाता है|

श्वसन प्रणाली के रोग –

सामान्य सर्दी, अस्थमा, ब्रोंकाइटिस सामान्य सर्दी, आमतौर पर 4 से 5 दिनों तक, गेहूं के रस के साथ अंजीर के रस का सेवन किया जाता है

लेकिन पुराने सर्दी के कई मामलों में माध्यम से सफलतापूर्वक इलाज किया जाता है| अस्थमा एक भयानक, अशुभ बीमारी है, जिसमें पारंपरिक दवाएं आज तक सकारात्मक और उत्साहजनक परिणाम देने में विफल रही हैं|अंकुरी का उपचार अस्थमा से भी संभव है|

पाचन तंत्र के रोग

प्रणाली के रोगों में गेहूं के अलावा कोई और बेहतर और प्रभावी उपचार नहीं है|उदाहरण के लिए कब्ज, अपच, मरोड़, खांसी, खट्टी डकार, पेट और आंतों में अल्सर, आंतों में सूजन, मधुमेह, गले में दर्द और सूजन और पेट के कीड़े|

इसे भी पढ़े:- कोरोना वायरस सिम्टम्स एंड प्रोटेक्शन

यदि कब्ज के शिकार लोग , गेहूँ के ज्वारे के रस में गोभी का रस मिलाकर पीने से पेट और आँतों के अल्सर के रोगियों को शीघ्र लाभ मिलता है|

दांत दर्द और मसूड़ों की समस्या

दांतों को हिलाना, मसूड़ों में सूजन, मसूड़ों में अल्सर और मसूड़ों से खून आना। गेहूं दांतों का प्रभावी उपचार है, सभी विकारों को दूर करता है| जोड़ों में सूजन, जोड़ों में दर्द, पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस और हड्डी टूटने जैसे जोड़ों के उपचार में, गेहूं के संख्यात्मक उपचार को लंबे समय तक लगातार चलाना पड़ता है|

गेहूं से चर्म रोग का उपचार

एक्जिमा, मुँहासे, मतली, फफोले, चोटों और चोटों, अन्य जीवों के काटने और त्वचा के नुकसान के कारण जलना त्वचा रोगों की श्रेणी में आता है। गेहूं का रस एक सक्रिय रक्त दाग है, इसलिए त्वचा रोगों के उपचार में बहुत प्रभावी है|

रोगी को न केवल रस का सेवन करना चाहिए, बल्कि प्रभावित हिस्सों पर भी कोमल और कोमल का उपयोग करना चाहिए| घावों और छालों पर के गेहूं के रस को घिसकर लगाने से यह बहुत जल्दी प्रभावित होता है|

गेहूँ या गेहूँ के अंकुर के सेवन के समय सावधानियां

सब्जियों का रस पीने से पहले और बाद में 15 मिनट का सेवन निषिद्ध है|

शुरुआत में केवल थोड़ी मात्रा में गेहूं का रस और चुकंदर का रस (75 मिली) लें| खुराक को 150 मिलीलीटर बढ़ाएं तक पहुँच गया। गेहूँ के जूस का सेवन, शुरुआत में कुछ समस्याएं पैदा करता है,

उदाहरण के लिए, चक्कर आना, खांसी, जुकाम, दस्त और बुखार और इसी तरह के अन्य मामले|

Share and Enjoy !

0Shares
0 0 0

Pin It on Pinterest