Read Time:5 Minute, 53 Second


पंचायत चुनाव उत्तर प्रदेश को लेकर भाजपा की तैयारियां तेज़:
भाजपा जिस प्रकार से पंचायत चुनावो में अपनी तैयारी दिखा रही है, उससे साफ़ जाहिर है की वो पंचायत चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन को लेकर सतर्क है, और पंचायत चुनाव को भी अन्य चुनावों की तरह लड़ना चाहेगी. हैदराबाद निकाय चुनाव में मिली जीत से BJP उत्साहित है, और अपने प्रदशर्शनो को पंचायत चुनाव में दोहराना चाहेगी, जिसमे की उनकी सहायता पहले से उत्तर प्रदेश में मौजूद भाजपा सरकार करेगी. भाजपा को राज्य में सरकार होने से मिलने वाले सभी लाभ होंगे और अच्छे प्रदर्शन की पूरी उम्मीद है .

पंचायत चुनाव के लिए कर्मचारियों की सूची बहुत जगहों से नहीं भेजी गयी है, इसका असर चुनाव तैयारियों पर भी पड़ेगा.
वर्ष 2011 की जनसंख्या के आधार पर ग्राम, क्षेत्र और जिला पंचायतों का पुनर्गठन हो चुका है. मतदाता सूची का भी 22 जनवरी को अंतिम प्रकाशन होना है. मतदाता सूची के अंतिम प्रकाशन के साथ ही चुनाव की तारीखों का ऐलान भी किया जा सकता है. हालांकि चुनाव को लेकर ग्रामीण इलाकों में दावेदारों ने अपनी तैयारियों के साथ ही प्रचार प्रसार भी शुरू कर दिया है. होर्डिंग-बैनर भी लगने शुरू हो गए हैं. इन सबके बावजूद सरकारी विभाग इससे दूरी बना रहे हैं. सभी विभागों को बीते 31 दिसंबर तक अपने-अपने अधिकारियों और कर्मचारियों की सूची भेजनी थी. ताकि त्रिस्तरीय चुनाव संपन्न कराने के लिए प्रभारी अधिकारी, निर्वाचन अधिकारी (आरओ), सहायक निर्वाचन अधिकारी (एआरओ), जोनल मजिस्ट्रेट (जेडएम), सेक्टर मजिस्ट्रेट (एसएम), मतदान और मतगणना के लिए कार्मिकों का चयन हो सके. कई विभागों ने अब तक सूची नहीं भेजी है.

इसे भी पढ़े: कोरोना टीकाकरण का रिहर्सल आज, जाने कैसे और कितने चरण में लगेगी

पंचायती राज मंत्री भूपेंद्र सिंह ने बताया कि मई तक जिला पंचायत अध्यक्षों और ब्लाक प्रमुखों की भी चुनावी प्रक्रिया पूरी करने का काम पूरा हो जायेगा. उन्होंने कहा कि सूबे में कोई राजनीतिक दल सिंबल नहीं देगा, चाहे कांग्रेस हो या भाजपा या फिर कोई अन्य पार्टी.
भूपेंद्र सिंह ने कहा कि भाजपा ग्रामीण क्षेत्रो में जीत दर्ज करेगी, चार साल की उपलब्धियों और कार्यकर्ताओं की सक्रियता क्षेत्र में चुनाव भाजपा के अनुकूल साबित होगी. सर्किट हाउस में पंचायती राज मंत्री भूपेंद्र सिंह की बैठक हुई जिसमें क्षेत्रीय अध्यक्ष रजनीकांत माहेश्वरी के साथ बरेली और आंवला जिले के भाजपा नेता मौजूद थे.
पंचायती राज मंत्री भूपेंद्र सिंह का कहना है की 15 फरवरी को त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की अधिसूचना जारी हो जाएगी, जिसके बाद मार्च के अंत या फिर अप्रैल के पहले सप्ताह में ग्राम पंचायत के चुनाव करवाने का काम पूरा हो जाएगा. इसके बाद क्षेत्र पंचायत और फिर जिला पंचायत का चुनाव करवाने पर तैयारियां शुरू होंगी. मई में त्रिस्तरीय चुनाव सम्पन करा लेने की तैयारी है. आबादी के हिसाब से आरक्षण का ध्‍यान पंचायत चुनाव में रखने की तैयारी चल रही है.

इसे भी पढ़े:योगी तो जाएगा’ कहते ही AAP विधायक सोमनाथ भारती पर फेंकी गई कालिख और फिर…

वार्डो के हिसाब से मतदाता सूचि तैयार की जा रही है, परिसीमिन का कार्य पूरा किया जा चुका है, जनवरी के बाद जिला पंचायत, ब्लाकों का आरक्षण जिले से तय कर लिया जाएगा.
परिसीमन का कार्य पूरा किया जा चुका है. वार्डों के हिसाब से मतदाता सूची तैयार करने का काम किया जा रहा है, पंचायत चुनाव के लिए सभी पाटिर्यों की तैयारियां पुरे ज़ोर पर है. भूपेंद्र सिंह ने कहा कि भाजपा कार्यकर्ता सक्रिय हैं. गांवों में विकास कार्यों और सरकार की चार साल की उपलब्यिों भाजपा के लिए पंचायत चुनाव को आसान बनाएगी, जो की 2022 की जमीन भी तैयार करेगी.
उत्तर प्रदेश की सभी ख़बरों के लिए जुड़े रहे करंट न्यूज़ के साथ, हमे बताये कैसा लगा आर्टिकल “पंचायत चुनाव के लिए भाजपा की तैयारी तेज़”

About Post Author

Author

administrator