50 सेलिब्रिटीज पर लगा राजद्रोह का आरोप

50 सेलिब्रिटीज पर लगा राजद्रोह का आरोप

प्रधानमंत्री को लेटर लिखकर देश में समस्याओं के बारे में चिंता व्यक्त करना अब मानों गुनाह हों गया है| देश की कुछ हस्तियों पर हाल ही में हुई अदालती कार्रवाई इस बात का पुख्ता सबूत है| मॉब लिंचिंग मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक ओपन लेटर लिखने वाले करीब 50 सेलिब्रिटीज के खिलाफ गुरुवार को एक FIR दर्ज की गई है| इन 50 सेलिब्रिटीज में अनुराग कश्यप, रामचंद्र गुहा, मणिरत्नम और अपर्णा सेन के नाम भी शामिल हैं| इनके खिलाफ प्रधानमंत्री की छवि को धूमिल करने का आरोप लगाया गया है|

इसे भी पढ़ें: वॉर मूवी रिव्यु : ऋतिक रोशन और टाइगर श्रॉफ की जोड़ी जबरदस्त है

अखिल भारत हिंदू महासभा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से देश के विभिन्न हिस्सों में मॉब लिंचिंग की घटनाओं के खिलाफ हाल में पत्र लिखने वाली 50 सेलिब्रिटीज पर देशद्रोह के आरोप में कार्रवाई की मांग की है| महासभा के कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री को भेजे गए कथित तौर पर खून से लिखे 101 पत्रों में कहा है कि ऐसे ‘गद्दारों’ के खिलाफ देशद्रोह के आरोप में कार्रवाई की जानी चाहिए और उन्हें मिले राष्ट्रीय पुरस्कार वापस ले लेने चाहिए|

कोर्ट के आदेश पर दर्ज हुआ था केस हाल ही में देश में बढ़ रही मॉब लिंचिंग पर अपनी चिंता जाहिर करते हुए इन सेलेब्रिटीज ने पीएम को खुला खत लिखा था| इस पर स्थानीय वकील सुधीर कुमार ओझा ने दो महीने पहले याचिका दायर की थी| उनकी याचिका पर सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सूर्यकांत तिवारी ने इन सभी 49 सेलेब्रिटीज पर एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया| इन सेलिब्रिटीज पर गुरुवार को केस दर्ज हुआ है|

इस बात की मांग की थी

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई, जिसमें देशद्रोह, सार्वजनिक उपद्रव से संबंधित, धार्मिक भावनाओं को आहत करना और शांति भंग करने के इरादे से अपमान करना शामिल है| इन सेलिब्रिटीज ने खुला खत जारी करते हुए मुस्लिमों, दलितों और अन्य अल्पसंख्यकों की लिंचिंग को तुरंत रोकने की मांग की थी|

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ें

देश की छवि धूमिल करने का आरोप

बता दें वकील सुधीर कुमार ओझा ने अपनी याचिका में सभी 49 सेलिब्रिटीज पर ये आरोप लगाया था कि उन्होंने देश की छवि को धूमिल करने और प्रधानमंत्री के प्रभावशाली प्रदर्शन को कम करने की कोशिश की है| साथ ही सुधीर कुमार ओझा ने याचिका में ये भी कहा कि उन्होंने अलगाववादी प्रवृत्तियों का समर्थन किया है|

Image Source : Google

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *