ADHD: What do you see in the children, these deadly symptoms?

ADHD : क्या दिखते है आपको आपने बच्चें में ये जानलेवा लक्षण?

क्या आपके बच्चें को किसी काम में ध्यान लगाने में कठिनाई महसूस होती है? क्या उसे एक ही जगह पर टिक के रहने में परेशानी होती है? क्या उसके व्यव्हार में असावधानी, हाइपरएक्टविटी और आवेग शामिल है| यदि उसे यह समस्याएं हैं और आपको लगता है कि यह उसके दैनिक जीवन को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर रही है| तो यह Attention deficit hyperactivity disorder (ADHD) का संकेत हो सकता है| जी हाँ यह एक मनोविज्ञानिक समस्या है| जो आमतौर पर बच्चों में देखी जाती है| लेकिन सही समय पर उपचार न मिलने के कारण यह किशोरावस्था और व्यस्कों में भी देखी जा सकती है|

आईये आपको बताते है की क्या होता है ADHD?

Attention deficit hyperactivity disorder (ADHD) एक ऐसी स्थिति है| जिसमें किसी व्यक्ति को अपने कार्यों पर ध्यान केंद्रित करने में परेशानी होती है| इस विकार में व्यक्ति के लिए ध्यान देने और अपने आवेगी व्यवहार को नियंत्रित करने में कठिनाई महसूस होती है| तो वह बेचैन हो जाता है| या लगभग लगातार सक्रिय हो सकता है| आमतौरपर यह समस्या बचपन में शुरू होती है| किशोर अवस्था में भी जारी रहती है|

इसे भी पढ़े : पीला बुखार (yellow fever) : एक अनोखी बीमारी

ADHD के लक्षण :
  1. ध्यानहीनता :- -आसानी से विचलित होना
    -निर्देशों का पालन नहीं करता है या कार्यों को पूरा नहीं करता है|
    -बाते नहीं सुनता है|
    -ध्यान नहीं देता और लापरवाह करता है|
    -दैनिक गतिविधियों के बारे में भूल जाता है|
    -दैनिक कार्यों को व्यवस्थित करने में समस्याएं हैं|
    -उन चीजों को करना पसंद नहीं करता जिनके लिए अभी भी बैठने की आवश्यकता है|
    -अक्सर चीजें खो देता है|
    -दिन में सपने देखता है|
  2. सक्रियता :- -शांति से बैठ नहीं पाते है| कुछ-ना-कुछ करते रहते है|
    -जरूरत से ज्यादा बाते करते है|
    -हमेशा चलते रहते है|
    -सब्र ना कर पाना|

ADHD के कारण :-

genetics (आनुवंशिकी) :- शोध में पाया गया है कि अगर परिवार में किसी को यह समस्या है| तो आने वाले पीढ़ी में भी यह समस्या देखने को मिलती है|

Environment (पर्यावरण) :- आनुवंशिकी के अतिरिक्त, कई पर्यावरणीय कारक एडीएचडी पैदा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है| गर्भावस्था के दौरान माँ द्वारा शराब के सेवन से fetal alcohol spectrum disorders हो सकता है| जिसमें एडीएचडी या इसके जैसे लक्षण शामिल है| कुछ जहरीले पदार्थों जैसेकि सीसा के संपर्क में आने से बच्चे, में एडीएचडी जैसी समस्याओं का विकास होता है|

Development (विकास) :- बच्चें के विकास के महत्वपूर्ण क्षणों में केंद्रीय तंत्रिका तंत्र में समस्याएं भी एडीएचडी के होने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है|

ADHD का इलाज़ :-

इसका इलाज़ दवाईयों और थेरेपी दोनों के द्वारा किया जा सकता है| अगर आपको लगता है की आपके बच्चे में भी एडीएचडी के लक्षण है| तो आपको मनोचिकित्सक का परामर्श जरुर लेना चाहिए| ताकि सही समय पर समस्या को नियंत्रण किया जा सके|

एडीएचडी के प्रबंधन के लिए कई प्रकार की मनोवैज्ञानिक पद्धतियों का सहारा लिया जाता है| जैसे संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी, पारस्परिक मनोचिकित्सा, फैमिली थेरेपी, कौशल प्रशिक्षण आदि| साथ ही सब्र ना कर पाने की क्षमता को कम करने और ध्यान केंद्रित करने की क्षमता को बढ़ाने के लिए कई प्रकार की दवाओं का इस्तेमाल भी मनोचिकित्सकों द्वारा किया जाता है|

डॉक्‍टर को कब संपर्क करें :-

अपने चिकित्सक से संपर्क करें अगर आपके बच्चे को एडीएचडी है| या यदि शिक्षक आपको सूचित करें कि आपके बच्चे को पढ़ने में दिक्‍कत है| इसका व्‍यवहार अन्‍य बच्‍चों से अलग है| और ध्‍यान देने में दिक्‍कत होती है| तो विशेषज्ञ से संपर्क करें|

एडीएचडी की समस्या बच्चों में कोई साधारण बात नहीं है| बल्कि एडीएचडी के लक्षण दिखाई देने पर माता-पिता को जल्द से जल्द मनोचिकित्सक की सलाह लेनी जरूरी है| बच्चों में इस समस्या को दूर करने के लिए मेडिसीनल ट्रीटमेंट दिया जा सकता है|

Image Source : Google

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *