Read Time:3 Minute, 49 Second

कक्षा 1 से 8वीं तक के छात्रों को अगली कक्षा में प्रमोट कर दिया

महामारी कोरोनावायरस के कारण देश में 3 मई तक लॉकडाउन है| लगभग सभी राज्य सरकारों ने कक्षा 1 से 8वीं तक के छात्रों को अगली कक्षा में प्रमोट कर दिया है| कुछ राज्यों में 9वीं और 11वीं के छात्रों को मूल्यांकन प्रक्रिया के बाद अगली क्लास में प्रमोट किआ जा रहा है| सीबीएसई बोर्ड,यूपी बोर्ड समेत अन्य राज्यों के बोर्ड एग्जाम स्थगित कर दिए गए है| फ़िलहाल एक और बोर्ड के री-एग्जाम की तारीखों का ऐलान होना बाकि है वहीँ दूसरी और अगले शैक्षणित सत्र 2020 -2021 की भी तैयारी की जानी है| तो आइये जानते है की इसमें क्या सच्चाई है-

यह भी पढ़े:- क्रिकेटर : युवराज सिंह ने किस बॉलर खिलाफ ऐतिहासिक कारनामा और बॉलर का मुश्‍किल से सामना किया ?

कैलेंडर चार सप्ताह के लिए तैयार किया गया

दरअसल कोरोनावायरस कोविद-19 महामारी के कारण लॉकडाउन के चलते महीनों से कक्षाएं निलंबित थी, जिसके बाद राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद् (NCERT) ने लॉकडाउन के दौरान छात्रों को व्यस्त रखने| डिप्रेशन से बचने और शिक्षा देने के लिए वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर तैयार किया है| इस कैलेंडर को केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड(सीबीएसई) से चर्चा करने के बाद केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने लांच किया|

सीबीएसई क्लास 9वीं से 12वीं

यह कैलेंडर शिक्षकों को अलग-अलग तकनीकी उपकरणों और सोशल मीडिया टूल्स का उपयोग करने के लिए दिशा-निर्देश प्रदान करता है| जो मजेदार,दिलचस्प तरीकों से शिक्षा प्रदान के लिए उपलब्ध है,जिनका उपयोग शिक्षार्थी घर बैठे भी कर सकते है| फ़िलहाल कैलेंडर चार सप्ताह के लिए त्यार किया गया है| और आगे हालत पर गौर करने के बाद इसे बढ़ाया जा सकता है|

यह भी पढ़े:- सेवा भारती : जानिए इस संस्था के बारे में और यह किसके लिए काम करता है………?

एचआरडी मिनिस्टर द्वारा लॉन्च शेषणित कैलेंडर

इसके बाद सीबीएसई बोर्ड द्वारा 9वीं से 12वीं तक के पाठ्यक्रम को कम किए जाने की ख़बरों ने इंटरनेट पर तूल पकड़ लिया है| लेकिन असल में फ़िलहाल ऐसा कोई फैसला नहीं लिया गया है| और एचआरडी मिनिस्टर द्वारा लॉन्च शैक्षणिक कैलेंडर में भी इस बात का जिक्र नहीं किया गया है| हलाकि सरकार को शिक्षा में गुणात्मक सुधार की सलाह देने वाले स्वायत्त संगठन NCERT ने सीबीएसई के सामने कक्षा 9 से 12वीं के पाठ्यक्रम को युक्तिसंगत बनाने का विकल्प रखा है| लेकिन इसे लेकर अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है|

Image Source:- www.jagranjosh.com