UN की तरफ से चीन और पाकिस्तान को अल्पसंख्यकों पर कड़ी नसीहत

UN की तरफ से चीन और पाकिस्तान को अल्पसंख्यकों पर कड़ी नसीहत

कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान की खीज अभी शांत भी नहीं हुई थी कि यूनाइटेड नेशंस की तरफ से उसे और उसके समर्थक देश चीन को फटकार लगी है| धारा 370 के हटने के बाद पाकिस्तान के लिए यह अगला झटका है|

धार्मिक अल्पसंख्यकों की सुरक्षा को लेकर सयुंक्त राष्ट्र की एक बैठक की गयी थी जिसमें अमेरिका, कनाडा और यूनाइटेड किंगडम जैसे बड़े देश भी शामिल थे| इसमें पाकिस्तान और चीन को अल्पसंख्यकों के साथ हुए भेदभाव पर काफी कुछ कहा गया|

चर्चा के दौरान वहां UK के पीएम के विशेष प्रतिनिधि लॉर्ड अहमद भी मौजूद थे| सयुंक्त राष्ट्र की बैठक में जब अल्पसख्यकों की सुरक्षा पर बात शुरू हुई तो उन्होंने कहा कि वे पूरी दुनिया के धार्मिक तबकों और अल्पसंख्यकों के हित में आवाज़ उठा चुके है| उन्हें कोई मतलब नहीं है इस बात से कि वो चीन में उइगर हों या पाकिस्तान में क्रिश्चियन और अहमदी| उनके लिए सब सामान है|

इसे भी पढ़ें: सीबीआई ने चिदंबरम से देर रात तक किये सवाल जवाब

वही अमेरिकी राजदूत सैम ब्राउनबैक ने अंतर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता को लेकर कहा कि धार्मिक स्वतंत्रता पर चीन सरकार द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों को लेकर बहुत चिंतित है| उन्होंने चीनी सरकार से विनती कि और कहा कि वह सभी राष्ट्र के मानवधिकारों और मौलिक स्वतंत्रता का आदर सम्मान करें| उन्होंने कहा पाकिस्तान में धार्मिक अल्पसंख्यक या तो गैर-राज्य की वजह से या फिर भेदभाव और प्रथाओं की वजह से लोग वर्षो से पीड़ित होते रहे है|

संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के अध्यक्ष नावेद वाल्टर ने कहा कि आज बड़ी संख्या में लोग अपने समाज में भी उचित सम्मान नहीं पाते है| क्योंकि उन्हें जाति और धन के तराजू में तोला जाता है| धर्म के नाम पर उनसे भेदभाव किया जाता है|

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ें

चीन सरकार ने लगाया था मुस्लिमों पर प्रतिबंध

चीन में मानवाधिकार संगठनों के अनुसार 10 लाख से अधिक उइगर और अन्य मुस्लिम अल्पसंख्यक शिविरों में रहते हैं| चीनी उन्हें मजबूर करते थे कि वह अपनी राजनीतिक विचार धारा को बदलें| ऐसा न होने पर चीनी सरकार ने 2017 में इस्लामी चरमपंथ के खिलाफ अभियान चलाया था| यह सब इसलिए भी किया गया था क्योंकि चीन चाहता था कि ये सब हमारे ही तरीके से रहे| लेकिन मुस्लिम अपने तरीके से रहना चाहते थे| जिस जगह मुसलमान रहते थे वह भी अपना दबदबा बना कर रखते थे| मुस्लिम महिलाएं सार्वजनिक स्थानों पर भी बुर्का पहनती थी| जिसकी वजह से उइगर मुस्लिमों पर प्रतिबंध लगा दिया गया था| चीन ने सरकारी आदेश जारी करवा दिया था कि अब से यहाँ के मुसलमान न तो लम्बी दाढ़ी रखेंगे और न ही मुस्लिम महिलाएं सार्वजनिक स्थानों पर बुर्का पहनेंगी|

पाकिस्तान ने किया हिन्दुओं के साथ भेदभाव

हिन्दुओं के साथ पाकिस्तान में बहुल भेदभाव किया जाता था| हिन्दू और सिख लड़कियों का अपहरण कर लिया जाता था| लोगों से उनका जबरदस्ती धर्म परिवर्तन करवा दिया करते थे| हिन्दुओं पर अत्याचार भी बहुत किया जाता था| साथ ही अहमदी और इसाई समुदाये के लोगों पर भी हमले किए जाते रहे हैं| उन्हें पाकिस्तान छोड़ने के लिए मजबूर किया जाता था या उन्हें मुस्लिम धर्म अपनाने की शर्त रखी जाती है|

Image Source : Google

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *