Read Time:4 Minute, 9 Second
Chief Minister Yogi Adityanath ने प्रदेश में हो, रही भर्तियों को पारदर्शी व निष्पक्ष बताते हुए कहा कि सत्ता में आने के बाद सभी भर्ती आयोगों को स्पष्ट निर्देश दे दिया था कि इस प्रक्रिया में कोई हस्तक्षेप नहीं होगा। किसी की सिफारिश नहीं माननी है। किसी तरह की शिकायत आई तो वह बुरा दिन होगा, उसे स्वीकार नहीं कर पाऊंगा। आज भर्तियों में ईमानदारी व पारदर्शिता सच्ची हकीकत है। 

पीसीएस संवर्ग के 2018 बैच के नवनियुक्त डिप्टी कलेक्टरों को नियुक्ति पत्र देते हुए शुक्रवार को Chief Minister Yogi Adityanath ने याद दिलाया कि 2017 के पहले भर्तियों की क्या स्थिति थी। कहा, आज भी सीबीआई जांच व कोर्ट में मामले चल रहे हैं। पहले नौकरियां बिकती थीं। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उपमुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा ने अच्छे प्रशिक्षण को सेवा के लिए बेहद महत्वपूर्ण बताया। वित्त मंत्री TI सुरेश कुमार खन्ना ने राष्ट्र व प्रदेश के प्रति कर्तव्यबोध की सीख दी।

अपर मुख्य सचिव नियुक्ति एवं कार्मिक मुकुल सिंघल व महानिदेशक उपाम एल. वेंकटेश्वर लू ने भी विचार व्यक्त किए। इसलिए चलाया वरासत अभियान : Chief Minister Yogi Adityanath ने यह खुलासा किया कि उन्होंने वरासत अभियान क्यों शुरू किया? बताया कि 2014 में पूज्य गुरुदेव (महंत अवेद्यनाथ) दिवंगत हुए। तय हुआ कि एक ट्रस्ट का गठन कर पूरी संपत्ति उसी के नियंत्रण में कर दी ।

Chief Minister Yogi Adityanath

यह भी पढ़े:- Varanasi : बनारस को बनासकांठा से जोड़ने की अनूठी पहल, 100 किसानों को दी गाय

जाए और वही उसका संचालन करे। 2014 में वरासत के लिए आवेदन किया गया लेकिन, 2016 तक उस पर कुछ नहीं हुआ। वरासत के लिए डीएम को फोन करना पड़ा। सोचा, कि जब एक सांसद के आवेदन पर कार्यवाही की यह स्थिति है तो फिर आम आदमी का क्या हो रहा होगा? । इसीलिए तीन महीने पहले वरासत अभियान चलाया। आठ लाख से अधिक मामले आए, जिनका निस्तारण किया जा चुका है।

नवनियुक्त अधिकारी बोले- भर्ती प्रक्रिया पूरी तरह निष्पक्ष और पारदर्शी नवनियुक्त अधिकारियों ने प्रदेश सरकार की भर्ती प्रक्रिया की निष्पक्षता व पारदर्शिता की खुलकर सराहना की। 2018 बैच की टॉपर अनुज नेहरा ने बताया कि वह हरियाणा की है। दूसरे राज्य की निवासी होने के बावजूद न सिर्फ चयन बल्कि पहली पोजीशन भर्ती प्रक्रिया की निष्पक्षता का प्रमाण है। अयोध्या में बीडीओ ज्योति शर्मा को तीसरा रैंक मिला है।

ज्योति ने कहा कि कठिन मेहनत व लक्ष्य के प्रति समर्पण के साथ पारदर्शी भर्ती प्रक्रिया ने सफलता में अहम भूमिका निभाई। पटना के कर्मवीर केशव को 5वां स्थान मिला है। उन्होंने बताया कि पहले प्रयास में ही सफलता मिली। उन्होंने यूपीपीएससी की भर्ती प्रक्रिया की सराहना की। ऋतुप्रिया, भावना विमल, पराग माहेश्वरी ने भी राज्य लोक सेवा आयोग व प्रदेश सरकार की सराहना की।

Image Source:- www.google.com

About Post Author

Author

administrator