Sat. Jan 25th, 2020

करंट न्यूज़

खबर घर घर तक

साक्षी मिश्रा के लिए नहीं थम रही मुश्किलें, हर रोज़ हो रहा एक नया खुलासा

endless problems for Sakshi Mishra

कहाँ से आया बैंक खाते में इतना पैसा

प्यार में बागी हो घर छोड़कर भागी साक्षी मिश्रा के लिए मुसीबते बढ़ती जा रही हैं| साक्षी मिश्रा अजितेश के मामले में हर दिन नए खुलासे हो रहे हैं| अब तक के हालातों को देखते हुए तो यह साफ़ लग रहा है कि यह कोई आम मामला नहीं है| इसके पीछे भी राजनितिक षड़यंत्र जुड़े हैं|

हाल ही में साक्षी के पति अजितेश की बैंक डिटेल्स सामने आयी हैं| यह खुलासा काफी चौंका देने वाला है| अजितेश के बैंक खाते में खुद की कोई भी पूँजी नहीं थी| अचानक ही तीन दिन के समय में उनके खाते में अलग-अलग तरीके से 1 लाख की धनराशि जमा की गई है|

पहले से ही उन पर काफी कर्जा था| उनकी आर्थिक स्थिति भी डगमगाई हुई थी| सूत्रों के मुताबिक साक्षी मिश्रा अजितेश की काफी समय से आर्थिक मदद कर रही थी|

इसे भी पढ़े : जानें साक्षी मिश्रा के पूरे केस का लेखा-जोखा

पहले तो उनका गुज़ारा साक्षी मिश्रा के भाई विक्की भरतौल और दोस्त अरमान सिंह की वजह से हो जाता था| अरमान सिंह के जेल जाने के बाद सारा मामला उलट गया है| अब कोई भी उनकी मदद को तैयार नहीं है| इस संकट की घडी में कोई भी उनका दोस्त नहीं रहा|

धीरे-धीरे कर अजितेश के लिए परेशानियां बढ़ती जा रही थीं| उनसे बाहर निकलने का कोई रास्ता नज़र नहीं आ रहा था| ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि अजितेश ने साक्षी मिश्रा को अपना निशाना बनाया|

ऐसा करना उसके लिए बहुत ही आसान था| उसने पूरा प्लान बनाया| और जानबूझकर ऐसा दिन चुना जब साक्षी घर पर अकेली थीं| साक्षी के माता पिता उस दिन घर से बाहर गए हुए थे| अगर वे घर पर होते तो पिता के रहते बेटी कभी भाग नहीं पाती|

जिस दिन वे भागे उसी दिन अजितेश के खाते में 20,000 की धनराशि जमा हुई| उसके बाद 3 दिन के अंदर 1 लाख रु. उसके खाते में ट्रांसफर हुए| बताया जा रहा है कि भाजपा नेताओं ने उसके खाते में राशि जमा कराई है| इस खबर के बाहर आ जाने के बाद से ही पुलिस उसके खाते की जानकारी जुटाने में लगी है|

साक्षी ने सरनेम नहीं बदला तो मचा बवाल

अजितेश से शादी के बाद भी साक्षी मिश्रा ने अपने नाम से मिश्रा नहीं हटाया है| अपने ट्विटर अकाउंट पर साक्षी ने अब भी अपने नाम के साथ मिश्रा लगाया हुआ है|

साथ ही उस पर डॉटर ऑफ़ बीजेपी एमएलए राजेश मिश्रा, ऑफिशियल अकाउंट ही लिखा हुआ है| इस बात पर ट्विटर यूज़र्स ने बवाल मचा दिया है|

लोगों ने इस बात पर आपत्ति जताई है| लोगों ने कहा कि जब भाग कर पिता के खिलाफ जा कर शादी की है| तो अब पिता का नाम क्यों इस्तेमाल कर रही हैं साक्षी|

जैसे अपनी शादी का ऐलान किया हैं वैसे ही पिता का नाम हटाने का भी ऐलान करें| इस पर कुछ लोग साक्षी के समर्थन में भी आए| मगर समर्थकों की संख्या विरोधियों के मुकाबले बहुत कम है|

अपनी ही पत्नी को बहना कहके पुकारता था अजितेश

सोशल मीडिया पर साक्षी मिश्रा और अजितेश के फेसबुक का एक स्क्रीनशॉट वायरल हुआ है| इस वायरल तस्वीर में अजितेश के फेसबुक पोस्ट का कमेंट सेक्शन दिखाई दे रहा है| अजितेश की एक फोटो पर साक्षी (सीनू मिश्रा) ने कमेंट किया है “बेस्ट पिक यो यो”| इसके बाद अजितेश (अभी सिंह) ने रिप्लाई में लिखा है “थैंक्स बहना”|

क्या है फार्म हाउस का मसला

बरेली से भाग प्रयागराज जाकर शादी करने के बाद साक्षी और अजितेश पास के गांव में एक फार्म हाउस में रुके थे| आसपस के लोगों ने साक्षी को वहाँ जाते हुए देखा भी था| गांव वालों नें विरोध भी जताया परन्तु वहाँ मौजूद दम्पति के समर्थकों के आगे वे कुछ न बोल सके|

इस पूरे मामले में विधायक से मिलने के बाद गांव के लोगों को थोड़ा हौसला मिला| इसके बाद उन्होंने विधायक को इस बात की सूचना दी| हांलाकि अभी इस बारे में कोई खुलकर बात करने को राज़ी नहीं है| पर अनुमान लगाए जा रहे हैं कि अभी और भी लोगों के इसमें शामिल होने के आसार हैं|

यह मेरे खिलाफ रची गई एक साज़िश है – विधायक राजेश मिश्रा

इस पूरे मामले को राजेश मिश्रा नें अपने खिलाफ सोच समझ कर रची गई साज़िश बताया है| उन्होंने कहा है कि यह सब मेरी और मेरे परिवार की छवि को ख़राब करने के लिए किया जा रहा है| उन्होंने यह भी बोला की यह मेरे विरोधियों द्वारा मेरा राजनितिक भविष्य ख़त्म करने की एक घिनौनी साज़िश है|

राजेश मिश्रा ने कहा कि “गौरव (पूर्व व्यापार सहयोगी) ने मुझे धोखा दिया| इसलिए मैं उससे अलग हो गया| उसने मेरे राजनीतिक विरोधियों से हाथ मिला लिया| इसमें नौकरशाह की पत्नी भी शामिल हैं| अजितेश के परिवार के साथ मिलकर साजिश (घर से भागने की) रची|”

बेटी के घर छोड़ अपनी मर्ज़ी से विवाह करने के फैसले पर भाजपा विधायक ने बोला कि इस समय वो इस बात पर कुछ नहीं कहना चाहेंगे| यह उनके और परिवार के लिए बहुत ही मुश्किल की घडी है| वे इस समय कुछ कहना या करना नहीं चाहते|

उन्होंने बोला कि “घटना को याद करना कष्ट कारक है| हमारे गांवों की संस्कृति को समझें-कैसे आपके विरोधी किसी अवसर का बेहतर इस्तेमाल करते हैं| और किसी की छवि को खराब करते हैं| मैं जानता हूं की गौरव के अलावा दो अन्य वरिष्ठ नेता अजितेश के परिवार की सहायता कर रहे हैं|”

साक्षी द्वारा रिलीज़ किये गए वीडियो

उनकी बेटी साक्षी द्वारा रिलीज़ किये गए वीडियो के बारे में वे बोले, “तीन जुलाई को दो युवक, जो गौरव के संपर्क में थे| शाम चार बजे मेरे घर पहुंचे| मैं तब लखनऊ से लौट रहा था| जबकि मेरा बेटा विकी एम्स (दिल्ली) गया था| मेरी छोटी बेटी सो रही थी, जब साक्षी गई|

अगले दिन गौरव ने साक्षी व अजितेश पर एक वीडियो रिकॉर्ड करने का दबाव बनाया| व सोशल मीडिया पर जारी करने को कहा| मेरे राजनीतिक विरोधियों की पूरी लॉबी ने मेरे खिलाफ काम किया| अजितेश को मेरे खिलाफ बोलने के लिए उकसाया|

यह वीडियो इलाहाबाद के करीब रिकॉर्ड किया गया| मेरा सवाल है कि “जब मैंने साक्षी को एक शब्द नहीं बोला तो वीडियो क्यों रिकॉर्ड किया गया| और बड़े मीडिया घरानों को क्यों वितरित किया गया|”

उन्होंने गौरव को अपराधी बताते हुए बोला कि, “मैं उस ऑडियो रिकार्डिंग की पुलिस जांच के नतीजों का इंतजार कर रहा हूं जिसमें पता चल रहा है कि गौरव मेरी हत्या की योजना बना रहा था| यह रिकार्डिंग गौरव के एक पुराने साथी ने पुलिस को दी है|”

Image Source : Google