ICC suspends Zimbabwe cricket team

ICC ने ज़िम्बाब्वे क्रिकेट टीम को किया निलंबित, 30 खिलाडियों का भविष्य खतरे में

अंतराष्ट्रीय क्रिकेट कॉउन्सिल (ICC) नें ज़िम्बाब्वे क्रिकेट टीम को हमेशा के लिए निलंबित कर दिया है| गुरुवार को लंदन में हुई वार्षिक सम्मलेन की बैठक के दौरान ये फैसला लिया गया| अब ज़िम्बाब्वे की टीम ICC द्वारा आयोजित किसी भी प्रतियोगिता में हिस्सा नहीं ले सकेगी|

इसे भी पढ़ें: भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान और उपकप्तान में बढ़ती दूरियां, जानिए क्या है वजह

गुरूवार रात ट्वीट कर के ICC ने इस बात की जानकारी दी| ICC ने कहा कि,”हम एक सदस्य को निलंबित करने के निर्णय को हल्के में नहीं लेते हैं|

लेकिन हमें अपने खेल को राजनीतिक हस्तक्षेप से मुक्त रखना चाहिए| जिम्बाब्वे में जो हुआ है वह आईसीसी संविधान का एक गंभीर उल्लंघन है और हम इसे अनियंत्रित जारी रखने की अनुमति नहीं दे सकते|”

ICC के अध्यक्ष शशांक मनोहर ने कहा कि,”आईसीसी चाहता है कि आईसीसी संविधान के अनुसार जिम्बाब्वे में क्रिकेट जारी रहे|”

ज़िम्बाब्वे क्रिकेट टीम

इस खबर के बाहर आते ही विश्व क्रिकेट में सनसनी फ़ैल गई| ICC के इस फैसले से ज़िम्बाब्वे के 30 खिलाडियों का करियर ख़त्म हो गया है|

ये 30 खिलाडी तो वे हैं जो हाल ही में टीम के लिए खेल रहे थे| इसके अलावा टीम के लिए भविष्य में खेलने का सपना देख रहे युवा खिलाडियों का भी भविष्य खतरे में पड़ गया है|

दरअसल ज़िम्बाब्वे सरकार द्वारा वहाँ के क्रिकेट बोर्ड को निलंबित कर दिया गया था| इस फैसले के बाहर आने के बाद ही ICC ने यह फैसला लिया है|

ICC का कहना है कि ज़िम्बाब्वे लोकतांत्रिक तरीके से अपक्षपाती चुनाव का माहौल बनाने और क्रिकेट प्रशासन को सरकारी दखलंदाज़ी से परे रखने में असफल रहा है|

इस बात पर ज़िम्बाब्वे के खिलाडियों को काफी गहरा झटका लगा है| कई खिलाडियों ने ट्वीट कर अपनी नाराज़गी ज़ाहिर की और कहा कहा कि, यह उनके क्रिकेट करियर का अंत है| पर वे इस तरीके से अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा नहीं कहना चाहते थे|

इसे भी पढ़ें: भारतीय टीम के चुनाव से नाखुश पूर्व कप्तान सौरव गांगुली, ट्वीट कर जताई नाराज़गी

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में फ़िलहाल लगातार तौर पर सिर्फ 12 टीमें ही सक्रिय हैं| उसमे से एक टीम को कल क्रिकेट ने गँवा दिया| साल 1990 के दौरान ज़िम्बाब्वे एक बहुत ही मजबूत टीम रह चुकी हैं|

उस वक्त इस टीम की गिनती टॉप की कुछ टीमों में की जाती थी| 1999 के वर्ल्ड कप में यह भारत और साउथ अफ्रीका जैसी मजबूत टीमों को हरा चुकी है|

हांलाकि ICC चाहता है कि ज़िम्बाब्वे क्रिकेट उनके देश में ही जारी रहे मगर ICC के नियमानुसार| लेकिन इसमें उनकी तरफ से ज़िम्बाब्वे क्रिकेट को किसी भी तरह की कोई आर्थिक मदद नहीं दी जाएगी|

ज़िम्बाब्वे के पूर्व कप्तान ब्रेंडन टेलर ने ट्वीट कर कहा है कि, “यह खबर दिल तोड़ देने वाली है| ज़िम्बाब्वे के पास कोई सरकार नहीं है|

फिर भी हमारे अध्यक्ष एक सांसद हैं? ठीक उसी तरह सैकड़ों ईमानदार लोग, खिलाड़ी, सहयोगी स्टाफ, ग्राउंड स्टाफ पूरी तरह से नौकरी से बाहर ज़िम्बाब्वे क्रिकेट को समर्पित हैं|”

ज़िम्बाब्वे का अगले साल होने वाले T20 वर्ल्ड कप के लिए अक्टूबर में क्वालीफ़ायर खेलना भी तय नहीं है| जनवरी 2020 में भारत और ज़िम्बाब्वे के बीच 3 मैचों की T20 श्रंखला खेली जानी थी| इस फैसले के बाद उस सीरीज पर भी खतरा मंडराता नज़र आ रहा है|

Image Source : Google

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *