August 7, 2020

करंट न्यूज़

खबर घर घर तक

Rashtriya Sewa Bharti : जानिए इस संस्था के बारे में और यह किसके लिए काम करता है?

Rashtriya Sewa Bharti

Rashtriya Sewa Bharti सेवक संघ द्वारा चलित एक प्रकल्प है। इसके मुख्य कार्य हैं – शिक्षा,संस्कार,सामाजिक जागरूकता,स्वरोजगार धर्म-परिवर्तन से वनवासियों की रक्षा आदि…..

Rashtriya Sewa Bharti हजारों केंद्रों के अपने देशव्यापी नेटवर्क के माध्यम से मुफ्त चिकित्सा सहायता,शिक्षा,साथ हीं स्वाबलंबन के लिए व्यावसायिक प्रशिक्षण जैसे कई कल्याणकारी और सामाजिक सेवा कार्यक्रमों को शुरू करके शहरी झोपड़पट्टियों और पुनर्वास कॉलोनियों के बीच भी काम करता है। यह सैंकड़ों जिलों में साल भर लाखों गतिविधियों को चलाता है। आपदा के समय बढ़-चढ़कर समाज हर हिस्से में सहायता के लिए बिना भेद-भाव तत्पर रहती है।

Rashtriya Sewa Bharti Beginning – राष्ट्रीय सेवा भारती की स्थापना

सेवा भारती की स्थापना 27 सितम्बर 1925 में हुई थी इसके संस्थापक मधुकर दत्तात्रेय देवरस है|

गैर-सरकारी संगठन

सेवा भारती एक गैर-सरकारी संगठन (NGO) है, जो भारतीय समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों,आदिवासी और स्वदेशी समुदायों के बीच काम कर रहा है|

यह शहरी झुग्गी बस्तियों और पुनर्वास कॉलोनियों में कल्याणकारी और सामाजिक सेवा कार्यक्रम,जैसे मुफ्त चिकित्सा सहायता,मुफ्त शिक्षा,और व्यावसायिक प्रशिक्षण की शुरुआत करके भी काम करता है। यह 602 जिलों में साल भर में लगभग 160000 गतिविधियाँ चलाता है|

(Health Check Up Camp) राष्ट्रीय स्वयं सेवा संघ की शाखा सेवा भारती ने अस्पताल के सहयोग से स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया……

चिकित्सालय के सहयोग से आयोजित इस शिविर में 18 डाक्टरों एवं विशेषज्ञों ने पेट की बीमारी, न्यूरो संबंधित बीमारियां सामान्य स्वास्थ्य,त्वचा रोग,नाक-कान एवं गले की परेशानियां,बच्चों से संबंधित सांस एवं अन्य प्रकार की बीमारियों का परामर्श एवं उपचार किया जाता है।

इन्हे पढ़ें:-लॉक डाउन : पुलिस प्रशासन ने उठाये और भी शक्त कदम,लोगों से अनाउंसमेंट कर की अपील….

सेवा भारती स्वास्थ्य शिविर द्वारा आयोजित इस शिविर में ब्लड, ब्लड प्रेशर तथा नाक-कान-गला आदि के साथ-साथ मानसिक बीमारियों से संबंधित मुफ्त जांच एवं परीक्षण भी कियाजाता है।

एसपीजीआई के न्यूरो डिपार्टमेंट के प्रमुख एवं ट्रामा सेंटर के हेड डाक्टर राज कुमार एवं डायरेक्टर बलरामपुर डाक्टर राजीव लोचन ने शिविर का उद्घाटन किया। सेवा भारती के सहयोगियों एवं बालंटियरों ने स्वास्थ्य एवं सफाई के संबंध में जागरूकता अभियान चलाकर संक्रमण से संबंधित विभिन्न बीमारियों के विषय में जानकारी दी।

इस मौके पर सेवा भारती स्वास्थ्य आयाम के अध्यक्ष डाक्टर राजकुमार ने कहा कि सेवा भारती स्वास्थ्य आयाम भविष्य में शहर के विभिन्न क्षेत्रों में इस तरह के स्वास्थ्य शिविरों का आयोजन करेगा। सेवा भारती स्वास्थ्य आयाम के महामंत्री डाक्टर राजीव लोचन ने कहा कि हम सभी कार्यकर्ता लोगों का उत्साह देखकर प्रेरित महसूस कर रहे हैं। हमारा विश्वास है कि हमारा यह छोटा सा प्रयास यहां के लोगों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में कारगर साबित होगा।

Rashtriya Sewa Bharti के सांस्कृतिक कार्यक्रमों की धूम…..

सेवा भारती उत्तराखंड की ओर से आनंद स्वरूप आर्य सरस्वती विद्या मंदिर दस दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया। शिविर के समापन प्रशिक्षणार्थियों ने विभिन्न संस्कृतियों पर आधारित रंगारंग कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी।

मुख्य नगर आयुक्त अशोक पांडे ने कहा कि इस तरह के प्रशिक्षणों का लाभ निकट भविष्य में मिलता है। उन्होंने बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ के विषय में भी अपने विचार रखें। राष्ट्रीय सेवा भारती प्रबंध समिति सदस्य और मुख्य वक्ता चंद्रिका चौहान ने सेवा भारती के उद्देश्य व प्रकल्पों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि मानवता की सेवा ही सेवा भारती का प्रमुख उद्देश्य है।

जल संरक्षण एवं पर्यावरण हमारे जीवन में क्या महत्व रखते हैं। इस दौरान उन्होंने प्रशिक्षणार्थियों को बेटी बचाओ,बेटी पढ़ाओ और भ्रूण हत्या के बारे में विस्तार से बताया। शिविर में प्रतिभागियों ने विभिन्न विधाओं चित्रकला,लोकनृत्य,मेहंदी, सिलाई,ब्यूटीशियन और योग आदि में प्रशिक्षण प्राप्त किया। शिविर में बेहतर प्रदर्शन करने वाले प्रतिभागियों को सम्मानित किया गया। वहीं सभी प्रतिभागियों को सेवा भारती की तरफ से प्रमाण पत्र दिए गए।

इन्हे पढ़ें:-Benifits of water : जानिए पानी कोरोना जैसे संक्रमण और अन्य बीमारियों में है कितना कारगर……

महिलाएं बन रही हैं स्वावलंबी…

महिलाएं बन रही हैं स्वावलंबी

राष्ट्रीय सेवा भारती रांची महानगर की ओर से एक दिनी आनंद मेला बरियातू रोड के आरोग्य भवन परिसर में लगा। इसमें 11 स्वावलंबन प्रशिक्षण प्रकल्प के 158 प्रशिक्षु शामिल हुए। मेला में हस्तशिल्प के अलावा घरेलू प्रयोग के सामान के कई स्टॉल लगाए गए थे। प्रतिभागियों के बीच खेलकूद, प्रतियोगिता एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम हुए। समापन समारोह में विकास भारती के सचिव ने कहा कि सेवा भारती ने महिलाओं को हुनर देकर स्वावलंबी जीवन जीने का अवसर उपलब्ध कराया है।

समाज के सहयोग से सामाजिक परिवर्तन का कार्य प्रभावी रूप से दिख रहा है| शहरी झुग्गी बस्तियों और पुनर्वास कॉलोनियों में कल्याणकारी और सामाजिक सेवा कार्यक्रम,जैसे मुफ्त चिकित्सा सहायता,मुफ्त शिक्षा और व्यावसायिक प्रशिक्षण की शुरुआत करके भी काम करता है।

एड्स जागरूकता….

राष्ट्रीय सेवा भारती एड्स जागरूकता कार्यक्रमों का संचालन भी करती है,जिसमें लॉरी ड्राइवर,टैक्सी ड्राइवर,ढाबा मालिक और युवा शामिल हैं,जहाँ सैकड़ों प्रतिभागी भाग लेते हैं और “सामान्य स्वास्थ्य और स्वच्छता”, “एसटीडी लक्षण और संचरण की विधि”, “एचआईवी-एड्स के लक्षण और” सहित विषयों पर चर्चा करते हैं। ट्रांसमिशन ऑफ़ “और” सेफ सेक्स “। प्रदर्शनियां भी आयोजित की जाती हैं और लोगों को बीमारी और इसकी रोकथाम के बारे में जागरूक करने के लिए साहित्य वितरित किया जाता है।इसके अलावा,संगठन के पास नियमित रूप से स्वास्थ्य जागरूकता अभियान है जैसे कि विश्व हृदय दिवस पर।

इन्हे पढ़ें:-क्रिकेटर : युवराज सिंह ने किस बॉलर खिलाफ ऐतिहासिक कारनामा और बॉलर का मुश्‍किल से सामना किया ?

स्वाइन फ्लू महामारी के दौर पर

स्वाइन फ्लू महामारी के दौरान संपादित करें
आरएसएस के स्वयंसेवकों ने विभिन्न संस्थानों के अधिकारियों के साथ समन्वय किया,जिसमें नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी), पुणे नगर निगम (पीएमसी), इंडियन मेडिकल एसोसिएशन और स्वाइन फ्लू के खिलाफ जागरूकता अभियान शामिल हैं। स्वयंसेवकों ने फ्लू से निपटने में सरकारी अधिकारियों और लोगों की मदद की थी|

शिक्षा के क्षेत्र में

शिक्षा संपादित करेंसेवा भारती के देश भर में आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों, विशेषकर आदिवासी और ग्रामीण गरीबों के लिए कई छात्रावास हैं। संगठन ने भारत में दस हजार से अधिक शैक्षिक परियोजनाओं की रिपोर्ट की है, जिनमें लड़कों और लड़कियों के लिए छात्रावास, ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक शिक्षा केंद्र और देश के दूरदराज के स्थानों में सड़क के बच्चों और एकल शिक्षक स्कूलों के लिए वयस्क और अनौपचारिक शिक्षा केंद्र शामिल हैं। यह सुदूर आदिवासी क्षेत्रों के छात्रों को देश के विभिन्न हिस्सों में स्कूलों में दाखिला लेने में मदद करता है और उनकी सभी शैक्षिक और अन्य जरूरतों को पूरा करता है।

अनाथालय

अनाथालय संपादित करें

सेवा भारती के पास बेसहारा बच्चों के लिए “मातृ छैया” या (माँ की देखभाल) नाम से पुनर्वास केंद्र हैं। इस परियोजना की योजना “मातृ मैत्री” को एक अनाथालय से अलग करने की परिकल्पना है और इसका उद्देश्य अपने माता-पिता द्वारा परित्यक्त बच्चों के लिए सुविधाएं प्रदान करना होगा। यह ‘दत्तक’ बच्चों की शिक्षा और अन्य सुविधाएं प्रदान करना है,जब तक कि वे अपने जीवन में व्यवस्थित न हों।

इन्हे पढ़ें:-चीनी : जानिए क्या है अधिक मीठा खाने के परिणाम …………………..

महिलाओं का सशक्तिकरण

Rashtriya Sewa Bharti के पास बड़ी संख्या में केंद्र हैं जो आर्थिक रूप से वंचित महिलाओं को व्यावसायिक प्रशिक्षण प्रदान करते हैं। यह महिलाओं को हस्तशिल्प और सजावटी सामान बनाने में प्रशिक्षित करता है और इन उत्पादों को बाजार में लाने में मदद करता है। पिछले कुछ वर्षों में सेवा भारती द्वारा प्रशिक्षित सैकड़ों लड़कियां हस्तशिल्प को एक सफल कुटीर उद्योग में बदल रही हैं,जो कि भारत के पूर्वोत्तर राज्यों में हैं। सेवा भारती भी शिविरों का आयोजन करती है और इस तरह के शिविरों में मंथन की गई हस्तशिल्प की प्रदर्शनियों का आयोजन करती है|

महिलाओं के अधिकारों के लिए

सेवा भारती उन महिलाओं के अधिकारों के लिए लड़ने के लिए भी जानी जाती है,जिन्हें शहरों में घरेलू मदद के रूप में लिया जाता है और उनका शोषण और दुर्व्यवहार किया जाता है। इसने वेतन में कमी, मारपीट और दुर्व्यवहार जैसे मुद्दों को उठाया है और विभिन्न सरकारी निकायों में उनकी चिंताओं का भी प्रतिनिधित्व किया है।इसने सरकारी एजेंसियों के साथ समन्वय किया है ताकि बचाव लड़कियों को दुर्व्यवहार और उत्पीड़न से बचाया जा सके।

पास बेसहारा बच्चों के लिए “मातृ छैया” या (माँ की देखभाल) नाम से पुनर्वास केंद्र हैं। इस परियोजना की योजना “मातृ मैत्री” को एक अनाथालय से अलग करने की परिकल्पना है और इसका उद्देश्य अपने माता-पिता द्वारा परित्यक्त बच्चों के लिए सुविधाएं प्रदान करना होगा। यह ‘दत्तक’ बच्चों की शिक्षा और अन्य सुविधाएं प्रदान करना है,जब तक कि वे अपने जीवन में व्यवस्थित न हों।

Image source:-www.google.com

Share and Enjoy !

0Shares
0 0

Pin It on Pinterest