Read Time:3 Minute, 18 Second
कमलनाथ

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और इंदिरागांधी के दत्तक पुत्र कमलनाथ अब विवादों में घिर गए है । मामला बीजेपी वर्सेश कांग्रेस का नही मामला कांग्रेस वर्सेश कांग्रेस का है । और कमलनाथ के नाथू प्रेम पर विवाद बढ़ता जा रहा है । हिन्दू महासभा के बाबूलाल चौरसिया के कांग्रेस में शामिल होने के बाद कांग्रेस में कलह बढ़ गया है । बाबूलाल के कांग्रेस में शामिल होने के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अरुण यादव ने कमल नाथ के खिलाफ मोर्चा खोल दिया ।

आपको बतादे की *बाबूलाल ने ग्वालियर में नाथूराम गोडसे का मंदिर बनवाया * जिसको लेकर पूर्व में काफी विवाद हो चुका है । बाबूलाल के कांग्रेस में पुनः शामिल होने पर कांग्रेसी खुद अब आमने सामने है । अब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मानक अग्रवाल ने भी इसका विरोध सुरु कर दिया है ।
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मानक अग्रवाल के ट्यूट पर फिर एक बार मध्य प्रदेश की राजनीति गर्मा गयी है

कमलनाथ

आप को बता दे कि ,, कांग्रेस नेता माणक अग्रवाल ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ की विचारधारा पर सवाल खड़े कर दिए .,,,माणक अग्रवाल ने ट्वीट किया कि  – ,,,,कमलनाथ जी स्पष्ट कर की वे गोडसे की विचारधारा के साथ है या गांधी की विचारधारा के साथ…जिस तरीके से उन्होंने अडानी – अम्बानी की तारीफ की उससे साफ है वह हमेशा पार्टी की विचारधारा के विपरीत चले है ।
कांग्रेस नेता मानक अग्रवाल ने बताया कि गोडसे का मन्दिर बनाकर उसकी पूजा करने वाले बाबूलाल चौरसिया को कमलनाथ को पार्टी से बापस हटा देना चाहिए पार्टी के  तमाम नेताओं और  कार्यकर्ताओं नाराज़ हैंवही कहां की कमलनाथ की 15 महीने की सरकार में  और उन्होंने कुछ नहीं किया वह दलालों से घिरे रहे,,,
बीजेपी प्रवक्ता राहुल कुठारी ने कहा कि लगातार कमलनाथ जी ने विधानसभा में सक्रियता दिखाने का प्रयास किया  और विधानसभा में खड़े रहे वही अरुण यादव  ने प्रश्न चिन्ह खड़ा किया बाद में मानक अग्रवाल  प्रश्न खड़ा कर रहे हैं इससे साफ है कि अब कमलनाथ एकमत नेता नहीं रहे और उनको अपनी स्थिति स्पष्ट करना चाहिए

राजेन्द्र सिंह जादौन

ये भी पड़े : www.aajtak.in

IMAGE SOURCE : www.google.com

About Post Author

Author

administrator