करंट न्यूज़

खबर घर घर तक

देश की राजधानी में 12 फीसदी है मुस्लिम वोटर,8सीटों पर है इनकी सबसे ज्यादा पकड़

देश की राजधानी में 12 फीसदी है मुस्लिम वोटर

देश की राजधानी में 12 फीसदी है मुस्लिम वोटर

दिल्ली में विधानसभा चुनावों की तारीख के ऐलान के बाद अब लोगों पर चुनाव का सियासी पारा खूब रंग दिखा रहा है| दिल्ली में पहली बार केजरीवाल की अगुवाई में आम आदमी पार्टी फिर से सत्ता बरकरार रखने की चाहत में है| तो वहीं कांग्रेस पार्टी अपने खोए हुए जनाधार को फिर से वापस पाने के लिए जद्दोजहद कर रही है| अगर देश की राजधानी दिल्ली की बात करें तो दिल्ली में लगभग हर 8वें मतदाता पर मुस्लिम वोट है|

इसे भी पढ़े : यूपी के पीलीभीत जिलें में बिना नगारिकता , पासपोर्ट के सहारे रह रहे है 50 हजार लोग

यही सबसे बड़ी वजह है कि कांग्रेस और आम आदमी पार्टी में मुस्लिम वोटों को अपने-अपने पाले में लाने की कोशिशें तेज हो गई है| अब ऐसे में देखने वाली बात यह है कि इस बार के विधानसभा चुनाव में मुस्लिम समुदाय के वोटर किसी के लिए अपने पत्ते खोलते है|

दिल्ली में मुस्लिम बहुल इलाको की स्थिति

राजधानी दिल्ली की सियासत में मुस्लिम मतदाता 12 फीसदी के करीब है| दिल्ली में कुल 70 विधानसभा सीटें है| इनमें से 8 सीटों को मुस्लिम बाहुल्य सीट माना जाता है| जिनमें बल्लीमारान, सीलमपुर, ओखला, मुस्तफाबाद, चांदनी चौक, मटिया महल, बाबरपुर, और किराड़ी सीटें शामिल है| इन विधानसभा क्षेत्रों में 35 से 60 फीसदी तक मुस्लिम मतदाता है| साथ ही सीलमपुर और त्रिलोकपुरी सीट पर भी मुस्लिम मतदाताओं कि संख्या काफी मह्त्वपूर्ण मायने रखती है|

दिल्ली में मुस्लिम वोटरों का हिसाब

दिल्ली की राजनीति में मुस्लिम वोटर बहुत ही सुनियोजित तरीके से वोटिंग करते रहे है| एक दौर था जब मुस्लिम वोटर पर सिर्फ कांग्रेस पार्टी की पकड़ हुआ करती थी| दिल्ली में साल 2013 विधानसभा और साल 2019 लोकसभा चुनाव में दिल्ली में मुस्लिम वोटरों ने कांग्रेस पार्टी को दिल खोल कर वोट दिया था| वहीं अगर साल 2105 के विधानसभा चुनाव और साल 2014 के लोकसभा चुनावों की बात करे तो इसमें मुस्लिम समुदाय के वोटरों पर आम आदमी पार्टी ने राज किया है|

इसे भी पढ़े : JNU हिंसा पर घायल फैकल्टी मेंबर का दावा, यूनिवर्सिटी का कोई छात्र नहीं था शामिल

लेकिन इन्ही नतीजों के कारण साल 2013 में कांग्रेस पार्टी ने 8 सीटें जीती थी| जिनमें कांग्रेस पार्टी से चार मुस्लिम विधायक बने थे| वहीं इनमें एक सीट आप के विधायक भी जीतने में कामयाब हुए थे| इसके बाद कांग्रेस पार्टी के परंपरागत वोट बैंक आम आदमी के साथ चला गयालेकिन इसके बाद साल 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस अपने वोट बैंक को पकड़ने में कामयाब रही है| वह साल 2019 के लोकसभा चुनाव दूसरे नंबर पर रही| लेकिन कांग्रेस पार्टी दिल्ली में एक भी सीट नहीं जीत पाई थी| लेकिन केजरीवाल की आम आदमी पार्टी का तो लोकसभा चुनाव में बहुत बुरा हाल हुआ था|

लोकसभा में कांग्रेस ने जीता मुस्लिम समुदाय का दिल

2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस मुस्लिम बहुल इलाकों में नंबर 1 की पार्टी बनी रही थी| कांग्रेस को सर्वाधिक 4, 10 205 मत मिले थे, जबकि दिल्ली में भाजपा को कांग्रेस के मुकाबले सिर्फ 30, 255 वोट कम मिले थे| भाजपा को इन सभी सीटों पर कुल वोट 3,79,833 वोट मिले थे| वहीं दिल्ली में तीसरे नंबर पर रही आम आदमी पार्टी को महज 1,33,737 वोटों के साथ करारी हार मिली थी|

मुसलमानों के लिए सीएए और एनआरसी जैसे मुद्दे है अहम

दिल्ली में मुस्लिम इलाकों में बिजली सप्लाई में सुधार, सड़क, और पानी जैसे अहम मुद्दे है| इसके अलावा सीएए और एनआरसी जैसे मुद्दे भी इस बार चुनाव में मुस्लिम इलाकों में पार्टियों को प्रभावित कर रहे है| वहीं कांग्रेस पार्टी सीएए और एनआरसी को लेकर सड़क से लेकर संसद तक भाजपा को घेरती रही है| इतना ही नहीं कांग्रेस के तमाम बड़े नेता इसके विरोध-प्रर्दशन में शामिल भी हुए है| वहीं आम आदमी पार्टी इस पर खामोशी से खड़ी दिखती हुई दिखाई दे रही है| वही दिल्ली के चुनाव मे केजरीवाल इस बार अपने पांच साल के विकास कार्यों को लेकर मुस्लिम समुदाय का दिल जीतना चाहते है| ऐसे में देखना होगा कि मुस्लिम समुदाय की इस बार के विधानसभा चुनाव में पहली पंसद कौन सी पार्टी बनती है|

Image Source : hindi.news18

Single Column Posts

Facebook Twitter LinkedIn Google+ Pinterest Shares स्टाफ सिलेक्शन कमिशन (SSC) ने 21st February 2020 को…

Facebook Twitter LinkedIn Google+ Pinterest Shares AIIMS ,ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज ने हाली…

Facebook Twitter LinkedIn Google+ Pinterest Shares माइक्रोबायोलॉजिस्ट सूक्ष्मजीवों जैसे बैक्टीरिया, वायरस, शैवाल, कवक और कुछ…

Facebook Twitter LinkedIn Google+ Pinterest Shares आजकल की पीढ़ी ज्यादा मेहनत में विश्वास नहीं रखती…

Facebook Twitter LinkedIn Google+ Pinterest Shares कई साल पहले आम धरणा थी कि विज्ञान से…

Facebook Twitter LinkedIn Google+ Pinterest Shares दुनिया में बहुत कम ऐसे लोग बचे हैं जो…

Facebook Twitter LinkedIn Google+ Pinterest Shares फ़ूड इंडस्ट्री एक विज्ञान शाखा है जो उत्पादन, प्रसंस्करण,…

Facebook Twitter LinkedIn Google+ Pinterest Shares एक ऑफिस में सैकड़ों लोग काम करते हैं| हर…

Facebook Twitter LinkedIn Google+ Pinterest Shares आपने भी कई लोगों को कहते हुए सुना होगा…

Facebook Twitter LinkedIn Google+ Pinterest Shares क्या आपको लगता है कि आपको फैशन के बारे…

Pin It on Pinterest