July 6, 2020

करंट न्यूज़

खबर घर घर तक

अधिकारों के लिए कांग्रेस का ऑनलाइन आंदोलन

अधिकारों के लिए कांग्रेस का ऑनलाइन आंदोलन

संकट की मार झेल रहे मजदूरों, किसानों

एक बार फिर कांग्रेस पार्टी केंद्र सरकार से देश की वर्तमान परिस्थितियों को लेकर सवाल करने जा रही है जब से देश में लॉक डाउन हुआ है तब से लगातार कांग्रेस की मांग रही है सरकार इस महामारी से आये संकट की मार झेल रहे मजदूरों, किसानों, असंगठित कर्मचारियों, छोटे दुकानदारों को तत्काल राहत पैकेज दे।लेकिन सरकार ने कांग्रेस की मांग को दरकिनार कर दिया।
कांग्रेस का कहना है कि सरकार इनकम टैक्स के दायरे से बाहर के लोगों को तुरंत 10 हज़ार रुपये उनके खाते में सीधे जमा कराए। अब कांग्रेस अपनी इसी मांग को लेकर आंदोलन को तेज करने जा रही है। पूरे जोरशोर से अपनी बात को सरकार के कानों तक पहुंचाने के लिए पार्टी ने तय किया है कि 28 मई को दिन की सुबह 11 बजे से दोपहर 2 बजे तक देश भर में बड़े पैमाने पर ऑनलाइन अपनी बात को रखने के लिए अभियान चलाएगी।

महासचिव केसी वेणुगोपाल ने एक चिट्ठी जारी

कांग्रेस संगठन के महासचिव केसी वेणुगोपाल ने एक चिट्ठी जारी कर देश भर के सभी कार्यकर्ताओं को कहा है और इस अभियान में शामिल होना अनिवार्य है हमें देश के लोगों की मदद करनी है। इसके लिए तय समय पर ट्विटर, फेसबुक, यू ट्यूब और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर एक साथ कम से कम 50 लाख कार्यकर्ताओं को ऑनलाइन जुटाने का लक्ष्य दिया है।
वेणुगोपाल की चिट्ठी में लिखा है कि “किसानों, मजदूरों, छोटे व्यापारियों, असंगठित क्षेत्र के कर्मचारियों की आवाज बनना हमारा कर्तव्य है इस आंदोलन के जरिए हम मुश्किल में फंसे लोगों के मुद्दे उठाएंगे और केंद्र सरकार से अपील करेंगे कि लोगों की मदद करने के लिए भी कांग्रेस द्वारा की गई मांगों पर विचार करे. हम सरकार से मांग करेंगे कि इनकम टैक्स के बाहर के परिवारों के खाते में दस हजार रुपए तत्काल जमा किए जाएं|

कांग्रेस पार्टी के नेता राजेश लिलोठिया ने बताया

जब हमनें कांग्रेस पार्टी के नेता राजेश लिलोठिया से बात की तो उन्होंने बताया कि हम अपनी मांग को लेकर दृढ़ संकल्पित हैं और लॉक डाउन की मार झेल रहे हर मज़दूर, कर्मचारी, किसान  की समस्या उनकी परेशानी को सामने रखेंगे और केंद्र की सरकार से मांग करेंगे 10 हज़ार रुपये तुरंत मिले क्योंकि इससे सिर्फ हमारे मज़दूर भाइयों की समस्या नहीं देश के MSME छोटे उद्योगों, दुकानदार, किसान सबका भला होगा क्योंकि देश के मध्यम वर्ग परिवार, गरीब मज़दूर के पास पैसा होगा तो वो उस पैसे को बाजार में खर्च करेंगे जिससे आपकी अर्थव्यवस्था का पहिया भी चलता रहेगा।सुस्त पड़ चुकी देश की आर्थिक गतिविधियों में जान आएगी।
गौरतलब है पिछले हफ्ते कांग्रेस पार्टी की अगुवाई में विपक्ष के 22 दलों ने केंद्र सरकार से मांग की थी, कि इनकम टैक्स के बाहर हर परिवार के बैंक खाते में अगले छह महीने तक 7,500 रुपए प्रति माह जमा किए जाएं|इसमें से 10 हजार की मदद फौरन करने का अनुरोध भी किया गया था. अब इस मांग को लेकर बड़ा ऑनलाइन आंदोलन करने जा रही है|केंद्र सरकार की तरफ से 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज को कांग्रेस अध्यक्ष क्रूर मजाक करार दे चुकी हैं| कांग्रेस का आरोप है कि गरीबों की स्थिति को लेकर सरकार संवेदनहीन है|

सोशल मीडिया का बखुबी इस्तेमाल किया है

महत्वपूर्ण है कि ऑनलाइन आंदोलन करने जा रही कांग्रेस ने लॉकडाउन के दौरान सोशल मीडिया का बखुबी इस्तेमाल किया है. दो बार कांग्रेस वर्किंग कमेटी और एक बार विपक्षी दलों की बैठक ऑनलाइन हो चुकी है| राहुल गांधी द्वारा विशेषज्ञों से लेकर मजदूरों तक से की गई बातचीत को सोशल मीडिया पर साझा किया गया| राहुल गांधी अब तक तीन बार ऑनलाइन प्रेस कॉन्फ्रेंस कर चुके हैं. लॉकडाउन के बावजूद कांग्रेस लगभग रोजाना प्रेस कॉन्फ्रेंस कर विभिन्न मुद्दों पर कभी सरकार का ध्यान खींचने की तो कभी सरकार को घेरने की कोशिश करती है|
इन सब राजनीतिक गतिविधियों के अलावा यूथ कांग्रेस ने सोशल मीडिया के नेटवर्क से जरूरतमन्दों तक मदद पहुंचाई है. कोरोना से लड़ाई के बीच लॉकडाउन से परेशान लोगों की मदद के लिए कांग्रेस के बड़े नेता व्हाट्सएप ग्रुप से लेकर जमीन तक मदद पहुंचाने के लिए सक्रिय है. यूपी के लिए बने ऐसे ही एक व्हाट्सएप ग्रुप की निगरानी प्रियंका गांधी खुद करती हैं|
Image Source:-m-hindi.webdunia.com

Share and Enjoy !

0Shares
0 0 0

Pin It on Pinterest