August 4, 2020

करंट न्यूज़

खबर घर घर तक

Love & Politics: सारा का प्यार नहीं होता तो सचिन पायलट आज उपमुख्यमंत्री न होते

Love & Politics: सारा का प्यार नहीं होता तो सचिन पायलट आज उपमुख्यमंत्री न होते

सचिन पायलट,ज्योतिरादित्य सिंधिया की राह पर चल पड़े

डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने अपनी ही पार्टी की सरकार के खिलाफ बगावत करके सबको चौंका दिया है। हालांकि उनकी नाराजगी के संकेत काफी पहले से मिल चुके थे। वे मप्र के ज्योतिरादित्य सिंधिया की राह पर चल पड़े हैं। सचिन एक शांत स्वभाव के नेता माने जाते हैं। सचिन की राजनीति में उनकी एंट्री अपने पिता राजेश पायलट के आकस्मिक निधन के चलते हुई थी।

सचिन पायलट और सारा की प्रेम कहानी भी बाकी कपल की तरह जोखिमभरी रही

उन्हें राजनीति के गुर सीखने को मिले अपनी ससुराल से। उनकी पत्नी सारा जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री रहे फारुख अब्दुल्ला की बेटी हैं। उनके भाई उमर अब्दुल्ला भी जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री रहे हैं। हालांकि सचिन और सारा की प्रेम कहानी भी बाकी कपल की तरह जोखिमभरी रही थी, लेकिन बाद में सब ठीक हो गया। सुनिये एक दिलचस्प कहानी…

विरोधों को झेलते हुए सचिन पायलट और सारा अब्दुल्ला ने लव मैरिज की

यह जरूरी नहीं कि पढ़ी-लिखी संभ्रांत फैमिली अपने बच्चों के प्यार को आसानी से स्वीकार कर ले। मोहब्बत में अड़चनें यहां भी आती हैं। ऐसी ही मुसीबतों और विरोधों को झेलते हुए सचिन पायलट और सारा अब्दुल्ला ने लव मैरिज की थी। राजस्थान के डिप्टी CM सचिन पायलट और सारा दोनों ही दिग्गज राजनीतिक फैमिली को बिलांग करते हैं। सचिन के पिता स्वर्गीय राजेश पायलट कांग्रेस के बड़े नेताओं में शुमार थे। वहीं सारा के पिता फारुख अब्दुल्ला और भाई उमर उमर अब्दुल्ला जम्मू-कश्मीर की सियासत में खासा दखल रखते हैं।
अमेरिका में पढ़ाई के दौरान सचिन और सारा एक-दूसरे से मिले थे। यहीं दोनों के बीच प्यार के बीज पड़े थे। हालांकि जब इनके परिवार वालों को इसकी भनक लगी, तो जैसे भूचाल आ गया। यहां हिंदू-मुस्लिम का मामला था। सचिन हिंदू थे, तो सारा मुस्लिम। इसलिए दोनों के परिवार इस शादी को टालना चाहते थे।
उन्होंने अपने-अपने बच्चों को समझाने की कोशिश की, लेकिन कहते हैं कि प्यार झुकता नहीं। दोनों नहीं झुके और 2004 में शादी कर ली। 7 सितंबर 1977 को उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में जन्मे सचिन पायलट की प्रेम कहानी अमेरिका से शुरू हुई थी। वे पेनसिल्वेनिया यूनिवर्सिटी से MBA की पढ़ाई करने गए थे। यहीं सारा भी स्टूडेंट थीं।

15 जनवरी, 2004 को दोनों ने दिल्ली में शादी कर ली

कॉलेज पढ़ाई के दौरान सारा-सचिन करीब आए और प्यार हो गया। सारा को सचिन से शादी करने के लिए लंबा इंतजार करना पड़ा। दोनों भारत आने के बाद भी ईमेल आदि के जरिये संपर्क में बने रहे। फिर 15 जनवरी, 2004 को दोनों ने दिल्ली में शादी कर ली। इस शादी में सारा के भाई और पिता किसी ने शिरकत नहीं की। शादी के वक्त सारा के पिता डॉ. फारुख अब्दुल्ला लंदन में थे।
वहीं भाई उमर इलाज के सिलसिले में दिल्ली के बत्रा हॉस्पिटल में भर्ती। हालांकि सचिन की मां और तब दौसा से कांग्रेस की सांसद रमा पायलट जरूर मौजूद थीं। यह शादी दिल्ली में उन्हीं के बंगले पर हुई थी।

आज वे राजस्थान के डिप्टी CM हैं,वहीं सारा सोशल वर्कर

हालांकि वक्त के साथ सारा के परिवार ने दोनों को स्वीकार कर लिया। इस कपल के 2 बेटे हैं। हालांकि एक दौर ऐसा था, जब सचिन पायलट ने कहा कि वे राजनीति में नहीं उतरेंगे। हालांकि वक्त उन्हें राजनीति में ले आया। आज वे राजस्थान के डिप्टी CM हैं। वहीं सारा सोशल वर्कर।एक टीवी शो में सारा ने बताया था कि वे सचिन के परिवार को बचपन से जानती थीं।
दोनों परिवार के बीच अच्छे रिश्ते थे। इसी वजह से दोनों के बीच मुलाकातें होती रहती थीं। बता दें कि सारा-सचिन के दो बेटे आरान और विहान अब अकसर उनके साथ देखे जा सकते हैं। सारा सोशल वर्कर के साथ योगा इंस्ट्रक्टर भी हैं।

Share and Enjoy !

0Shares
0 0

Pin It on Pinterest