Read Time:3 Minute, 5 Second

शहडोल: मामला मध्यप्रदेश के शहडोल जिले का है जहाँ प्रेमियों के आड़े जाति आ गई औऱ अपने ही पराए हो गए व पवित्र प्रेम के बीच दीवार बनकर खड़े हो गए तब पुलिस को सामने आना पड़ा पुलिस ने प्रेमी जोड़े की शादी थाना परिसर में बने मंदिर में करा दी यह नज़र बड़ा जबरजस्त था यहाँ बाराती औऱ धराती के साथ पंडित भी पुलिस ही थी औऱ पूरे रीति-रिवाजों के साथ शादी कराई

जहाँ एक औऱ लॉकडाउन में विवाह को लेकर जब बराती और घरातियो की संख्या 25 से घटाकर 10 कर दी गई कुछ जगहों पर प्रतिबंध भी लगा दिए गए हैं ऐसे में शहडोल जिले के गोहपारू थाना परिसर स्थित मंदिर में प्रेमी जोड़े की शादी चर्चा में है पुलिसकर्मियों ने नव दंपति की आर्थिक सहायता भी की औऱ सुखी जीवन का आशीष भी

पूरा मामला शहडोल के गोहपारू थाना क्षेत्र के ग्राम निवासी नानबाई गोड़ (22)अनुज गुप्ता(24) एक दूसरे को पसंद करते थे शादी करना चाहते थे समस्या यह थी कि उनके रिश्ते को लेकर परिवार के लोग राजी नहीं थे तभी 27 अप्रैल को नानबाई और अनुज घर से भाग गए परिजनों ने इसकी सूचना गोहपारू थाने में दर्ज करवाई पुलिस ने 30 अप्रैल को दोनों को शहडोल से पकड़ लिया
वहीं थाने में युवक और युवती के परिजनों को बुलाया गया तो दोनों पक्ष के परिजनों ने इस रिश्ते को अपनाने से साफ इंकार कर दिया दोनों बालिग थे इसलिए पुलिस ने ही दोनों की शादी विधि विधान से करवाने का निर्णय लिया ।

गोहपारू पुलिस ने कोरोना कर्फ्यू को ध्यान में रखते हुए परिसर स्थित मंदिर में शादी की तैयारी की और मंदिर में भगवान को साक्षी मानकर हिंदू रीति अनुसार शादी करवाई गई थाने के आरक्षक रामानंद तिवारी ने वैदिक मंत्रों का उच्चारण कर नानबाई और अनुज की शादी करवाई औऱ आशीष प्रदान किया ।

पुलिस ने आर्थिक सहायता भी की
गोहपारू थाना प्रभारी ज्योति सिकरवार ने बताया कि शादी के बाद जीवन की गाड़ी पटरी पर लाने के लिए दोनों को आर्थिक सहायता भी की गई अनुज ने बताया कि उसने शहडोल में कमरा किराए पर लिया है और आगे कुछ काम धंधा शुरू करेगा।

About Post Author

Author

administrator