Read Time:6 Minute, 18 Second

उत्तर प्रदेश में कोविड की रोकथाम के लिए मुख्यमंत्री योगी ने नई टीम बना दी है. बीते एक वर्ष से काम कर रही वरिष्ठ अधिकारियों की टीम 11 को भंग कर दिया गया है. इसकी जगह अब स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा मंत्रियों को शामिल करते हुए नई टीम 9 का गठन कर दिया गया है. कोविड-19 के प्रबंधन के लिए बनी टीम-9 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश जारी करते हुए कहा कि संक्रमण के मद्देनजर प्रदेश में कक्षा 1 से 12वीं तक के सभी विद्यालयों में 10 मई तक अवकाश रखा जाए. इस दौरान न केवल कोचिंग संस्थाएं भी बंद रहेंगी बल्कि ऑनलाइन कक्षाएं भी स्थगित रखी जाएंगी. शुक्रवार रात 8 बजे से मंगलवार सुबह 7 बजे तक के साप्ताहिक कोरोना कर्फ्यू को प्रभावी ढंग से लागू किया जाए. इस अवधि में औद्योगिक गतिविधियां यथावत संचालित होती रहें. तीन दिनों के लॉकडाउन में टीकाकरण के लिए आना-जाना करने वालों को छूट दी जाएगी.

DGP के नेतृत्व में कार्य होगा केवल आवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी. नई बनाई गई टीम 9 में चिकित्सा शिक्षा मंत्री की टीम द्वारा कोविड बेड्स, मानव संसाधन की उपलब्धता, प्रशिक्षण और टीकाकरण से जुड़े कार्य संपादित कराए जाएंगे. इसमें अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य एवं प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा भी शामिल होंगे. स्वास्थ्य मंत्री की टीम मेडिकल किट, टेस्टिंग और स्वास्थ्य सुविधाओं की बढ़ोतरी से जुड़े कार्यों के प्रति जवाबदेह होगी. इसमें राज्य मंत्री स्वास्थ्य और एसीएस हेल्थ भी होंगे. टीम 9 में तीसरे सदस्य के रूप में मुख्य सचिव होंगे. यह भारत सरकार के साथ समन्वय से जुड़े कार्यों / पत्राचार आदि का निर्वहन करेंगे. साथ ही आइसीसीसी की मॉनिटरिंग भी इनकी जिम्मेदारी होगी. चौथे सदस्य एसीएस होम होंगे जो प्रदेश में ऑक्सीजन की सुचारू उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए प्रमुख सचिव एफएसडीए और प्रमुख सचिव परिवहन के सहयोग से कार्य करेंगे. कंटेनमेंट जोन, लॉ एंड ऑर्डर, साप्ताहिक बन्दी, कोविड | प्रोटोकॉल के अनुपालन के लिए डीजीपी के नेतृत्व में कार्य होगा.

निगरानी समितियों की करेगी मॉनिटरिंग छठवीं टीम एसीएस ग्राम्य विकास एवं पंचायती राज की होगी, जो स्वच्छता, फॉगिंग, सैनिटाइजेशन और निगरानी समितियों की मॉनिटरिंग करेगी. इसी प्रकार कृषि उत्पादन आयुक्त की जवाबदेही गन्ना, खाद्यान्न वितरण, पशुपालन और कृषि आदि संबंधित कार्यों के सुचारू क्रियान्वयन की होगी. 8वें सदस्य के रूप में आईआईडीसी होंगे, यह प्रदेश में औद्योगिक गतिविधियों के सुगम क्रियान्वयन के लिए जिम्मेदार होंगे. औद्योगिक इकाइयों से इनका सीधा संवाद होगा. 9वीं सदस्य के रूप के एसीएस राजस्व को शामिल किया गया है. यह प्रवासी श्रमिकों से जुड़े प्रबंधन के प्रति जिम्मेदार होंगी. इसके अतिरिक्त, अपर मुख्य सचिव सूचना टीम-9 के साथ समन्वय | स्थापित करते हुए जनहित में व्यापक प्रचार-प्रयास सुनिश्चित कराएंगे.

उत्तर प्रदेश में 2 दिनों के साप्ताहिक लॉकडाउन और 8 बजे से रात का कर्फ्यू सब्जी किसानों के साथ ही उपभोक्ताओं पर भारी पड़ रहा है. जहां किसानों की उपज औने-पौने दामों पर बिक रही है वहीं फुटकर बाजार में उपभोक्ताओं को इसके कई गुना दाम चुकाने पड़ रहे हैं. सब्जी के साथ ही कोरोना की दूसरी लहर में फलों के दामों में भी आग लग चुकी है. विटामिन सी की अधिकता वाले खट्टे फलों के दाम सबसे ज्यादा तेजी से बढ़े हैं. बीते एक सप्ताह में ही संतरा, कीवी, अंगूर, मालटा जैसे फल आम आदमी की पहुंच से •बाहर निकल चुके हैं. नीबू के दामों में भी जबरदस्त तेजी देखी जा रही है और यह फुटकर बाजारों में 200 रुपये किलो के भाव से बिक रहा है. रात के कर्फ्यू और शनिवार रविवार के लॉकडाउन के चलते फुटकर बाजारों में थोक मंडी में कम दाम होने के बाद भी दो से तीन गुनी कीमत पर फल और सब्जी बिक रही है. फुटकर दूकानदारों का कहना है कि अब उनका माल दो दिनों की बंदी में खराब हो रहा है साथ ही रात में बिक्री बंद करनी पड़ती है. हालांकि उनका मानना है कि थोक मंडी और फुटकर बाजारों में रेट में भारी अंतर है पर इसकी वजह बिक्री के लिए मिलने वाला कम समय और कम खरीददारों का आना है.

About Post Author

Author

administrator